राष्‍ट्रीय ई-शासन योजना के अंतर्गत सरकार ने सामान्‍य सेवा केन्‍द्र (सीएससी) योजना को मंजूरी दे दी है। इसके अंतर्गत ग्रामीण क्षेत्रों में जल्दी ही एक लाख कियोस्‍क या साइबर कैफे स्‍थापित कर लिए जाएंगे। संचार व सूचना प्रौद्योगिकी राज्‍यमंत्री सचिन पायलट ने बुधवार को लोकसभा में यह जानकारी देते हुए बताया कि इस योजना के तहत औसतन छह गांवों के लिए एक कियोस्‍क स्‍थापित किया जाना है। ये केन्‍द्र इंटरनेट और ई-मेल की सुविधाओं सहित सार्वजनिक सेवाएंऔरऔर भी

अब छह भारतीय भाषाओं में लिखित पाठ्य को पढ़ने वाली टेक्सट टू स्पीच (टीटीएस) प्रणाली उपलब्ध हो गई है। ये भाषाएं हैं हिंदी, मराठी, बांग्ला, तेलुगू, तमिल, मलयालम और पंजाबी। गुरुवार को संचार व सूचना प्रौद्योगिकी राज्यमंत्री सचिव पायलट ने इस प्रणाली की सीडी का लोकार्पण किया। उन्‍होंने इस मौके पर हिन्दी के लिए वेब आधारित प्रकाश आधारित पहचान प्रणाली (ऑप्टिकल कैरेक्टर रिकग्निशन सिस्टम या ओसीआर) की भी शुरूआत की। टेक्स्ट टू स्पीच ऐसा कंप्यूटर सॉफ्टवेयर हैऔरऔर भी

इस साल जनवरी से जून तक के छह महीनों के दौरान कुल 117 सरकारी वेबसाइटें हैक कर विकृत कर दी गईं। यह जानकारी संचार व सूचना प्रौद्योगिकी राज्‍य मंत्री सचिन पायलट ने बुधवार को लोकसभा में एक प्रश्‍न के लिखित उत्‍तर में दी। उन्होंने बताया कि प्रभावित संगठनों व विभागों से हमले की प्रकृति व तरीके किस्‍म और हैकर द्वारा इस्‍तेमाल की गई कमजोरियों का विश्‍लेषण करने को कहा गया। उनसे हैक की गई वेबसाइटों का वेबऔरऔर भी

केंद्र सरकार ने देश भर में फैले करीब 2.73 लाख ग्रामीण डाक सेवकों को रिटायरमेंट के बाद वित्तीय सुरक्षा देने के लिए विशेष स्कीम शुरू की है। इसमें डाक सेवक को अपनी तरफ से कोई खर्च या निवेश नहीं करना होगा। भारत सरकार का डाक विभाग हर ग्रामीण डाक सेवक के खाते में प्रति माह 200 रूपए जमा करेगा। इस तरह जमाराशि से 65 साल की उम्र मे रिटायर होने पर ग्रामीण डाक सेवकों और उनके पति/पत्‍नीऔरऔर भी