स्माइल पावर दिवस पर दीजिए दो इंच मुस्कान!

कोई चिंता, फिक्र या परेशानी हो तो सब कुछ भुलाकर एक पल आईने के सामने खड़े होकर मुस्कुराइए। इससे तनाव तो कम होगा ही, चेहरे की रौनक भी बढ़ जाएगी। चेहरे पर आई हल्की-सी मुस्कुराहट में गजब की ताकत होती है और यह बहुत दूर तक असर करती है। यह बात इसलिए भी मायने रखती है कि बुधवार, 15 जून को स्माइल पावर दिवस है।

कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी के एक शोध के अनुसार, मुस्कुराहट सिर्फ दिल को सुकून ही नहीं देती, इसका सेहत से भी सीधा संबंध है। मात्र दो इंच की मुस्कुराहट से चेहरे की दर्जनों नसों का व्यायाम हो जाता है। लगातार मुस्कुराते रहिए। इससे चेहरे पर झुर्रियां नहीं पड़तीं और हमेशा रौनक बनी रहती है।

मुख्य शोधकर्ता जॉन डाल्टन का यह शोध कहता है कि मुस्कुराने से चेहरे से लेकर गर्दन तक की मांसपेशियों का व्यायाम हो जाता है। मुस्कुराते वक्त चेहरे की सभी मांसपेशियों में खिंचाव आता है, जिससे जल्दी झुर्रियां नहीं पड़तीं। महबूबा की मुस्कुराहट पर कवियों और शायरों ने हजारों लाखों शेर यूं ही नहीं लिख डाले। आखिर कुछ तो बात है होठों पर खिंची इस नन्हीं-सी लकीर में कि जिसे देखो इसका दीवाना हुआ जाता है।

एक अन्य शोध के मुताबिक मुस्कुराकर कही गई बात सामनेवाले पर अच्छा प्रभाव डालती है। मुस्कुराकर कहा गया काम हो या फरमाइश, उसके पूरा होने की संभावना 50 फीसदी तक बढ़ जाती है। बोस्टन यूनिवर्सिटी के सामाजिक विज्ञान के प्रोफेसर डी क्लचर ने इस शोध के लिए 10,000 लोगों को सैंपल सर्वे के जरिए चुना। उनमें से 85 फीसदी का मानना है कि उनके जीवन में कई ऐसे मौके आए जब मुस्कुराकर बात करने से उनका बिगड़ता हुआ काम भी बन गया। बाकी 15 फीसदी का मानना है कि मुस्कुराहट बहुत ज्यादा काम नहीं आती। (भाषा)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *