रिजर्व बैंक में बैठा है कोई हनुमान-भक्त!

वैसे तो देश के खजाने और मौद्रिक नीति के प्रबंधन का कोई वास्ता किसी आस्था नहीं है। लेकिन रिजर्व बैंक में लगता है कि शीर्ष पर कहीं कोई हनुमान-भक्त बैठा है क्योंकि उसकी सालाना मौद्रिक नीति और हर तिमाही समीक्षा मंगलवार को ही आती रही है। 20 अप्रैल को 2010-11 की सालाना मौद्रिक नीति आई। 27 जुलाई 2010 को पहली समीक्षा, 2 नवंबर 2010 को दूसरी समीक्षा और 25 जनवरी 2011 को तीसरी समीक्षा हुई। इसमें से हर दिन मंगलवार था। चालू वित्त वर्ष की सालाना नीति भी मंगलवार, 3 मई को आई है और पहली तिमाही की समीक्षा 26 जुलाई, मंगलवार को होनी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *