खाद्य मुद्रास्फीति बढ़कर 10.86 फीसदी हुई

खाने पीने की वस्तुओं की महंगाई में उतार-चढाव का दौर जारी है। फल, सब्जियों और कुछेक दालों के दाम बढ़ने से 21 अगस्त को समाप्त सप्ताह में थोक मूल्यों पर आधारित खाद्य मुद्रास्फीति एक सप्ताह पहले की तुलना में 81 आधार अंक (0.81 फीसदी) बढकर 10.86 फीसदी हो गई।

सात अगस्त से लगातार दो हफ्ते रही गिरावट के बाद खाद्य मुद्रास्फीति में एक बार फिर मजबूती का रुख बना है। देश के विभिन्न भागों में बारिश और कुछ इलाकों में बाढ की स्थिति बन जाने से फल, सब्जियों और खाने पीने की जरूरी वस्तुओं की परिवहन व्यवस्था गडबडाने से इनमें मजबूती का रुख बना। हालांकि, कुल मिलाकर पिछले साल की तुलना में सब्जियों के दाम नीचे हैं।

वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय द्वारा शुक्रवार को जारी आधिकारिक आंकडों के अनुसार खाद्य वस्तुओं का समूह सूचकांक आलोच्य सप्ताह में 1.8  फीसदी बढकर 303.3 अंक हो गया। एक सप्ताह पहले की तुलना में समूह में मछली के दाम 22 फीसदी उछल गए। फल व सब्जियों में चार फीसदी और चना एक फीसदी महंगा हो गया। हालांकि मूंग और अंडा दो फीसदी और मसूर के दाम एक फीसदी घट गए।

गैर-खाद्य वस्तुओं में भी मजबूती का रुख रहा। इसमें कच्चा रेशम दो फीसदी, मूंगफली बीज, कपास और सरसों बीज प्रत्येक एक फीसदी बढ गए। अरंडी, कच्चा रबर में क्रमशः तीन और दो फीसदी की गिरावट रही। अनाज और चावल में भी नरमी का रुख रहा है लेकिन गेहूं में पिछले साल की तुलना में दाम उंचे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *